Search This Blog

Loading...

Thursday, 9 February 2012

रुद्राक्ष

रुद्राक्ष-शिव के आँख के तारे

 का महत्व
रुद्राक्षदेवता             मंत्र
१ मुखीशिव 1-ॐ नमः शिवाय । 2 –ॐ ह्रीं नमः
२ मुखीअर्धनारीश्वर ॐ नमः
३ मुखीअग्निदेव ॐ क्लीं नमः
४ मुखीब्रह्मा,सरस्वती ॐ ह्रीं नमः
५ मुखीकालाग्नि रुद्र ॐ ह्रीं नमः
६ मुखीकार्तिकेय, इन्द्र,इंद्राणी ॐ ह्रीं हुं नमः
७ मुखीनागराज अनंत,सप्तर्षि,सप्तमातृकाएँ ॐ हुं नमः
८ मुखीभैरव,अष्ट विनायक ॐ हुं नमः
९ मुखीमाँ दुर्गा १-ॐ ह्रीं दुं दुर्गायै नमः २-ॐ ह्रीं हुं नमः
१० मुखीविष्णु १-ॐ नमो भवाते वासुदेवाय २-ॐ ह्रीं नमः
११ मुखीएकादश रुद्र १-ॐ तत्पुरुषाय विदमहे महादेवय धीमही तन्नो रुद्रः प्रचोदयात २-ॐ ह्रीं हुं नमः
१२ मुखीसूर्य १-ॐ ह्रीम् घृणिः सूर्यआदित्यः श्रीं २-ॐ क्रौं क्ष्रौं रौं नमः
१३ मुखीकार्तिकेय, इंद्र१-ऐं हुं क्षुं क्लीं कुमाराय नमः २-ॐ ह्रीं नमः
१४ मुखीशिव,हनुमान,आज्ञा चक्र ॐ नमः
१५ मुखीपशुपति ॐ पशुपत्यै नमः
१६ मुखीमहामृत्युंजय ,महाकाल ॐ ह्रौं जूं सः त्र्यंबकम् यजमहे सुगंधिम् पुष्टिवर्धनम उर्वारुकमिव बंधनान् मृत्योर्मुक्षीय सः जूं ह्रौं ॐ
१७ मुखीविश्वकर्मा ,माँ कात्यायनी ॐ विश्वकर्मणे नमः
१८ मुखीमाँ पार्वती ॐ नमो भगवाते नारायणाय
१९ मुखीनारायण ॐ नमो भवाते वासुदेवाय
२० मुखीब्रह्मा ॐ सच्चिदेकं ब्रह्म
२१ मुखीकुबेर ॐ यक्षाय कुबेराय वैश्रवणाय धनधान्याधिपतये धनधान्य समृद्धिं मे देहि दापय स्वाहा

No comments:

Post a Comment