Search This Blog

Loading...

Thursday, 4 August 2011

होली

होली के कुछ गुप्त रहस्य भी होते हैं जिन्हें गुरु केवल योग्य शिष्यों को ही बताता है 
आइये अब होली के कुछ दिव्य प्रयोगों के बारे में जानते हैं 
 
धन लक्ष्मी प्रयोग-
लाल रंग से माथे को रंग कर लक्ष्मी माता के मन्त्रों का जाप करें लक्ष्मी कि कृपा बरसेगी 
मंत्र-ॐ श्रीं श्रीं महालक्ष्मी आगच्छ आगच्छ धनं देहि देहि स्वाहा: 
कमल गट्टे की माला से मंत्र का जाप करें  
लाल गुलाल में कुछ दक्षिणा राशि रख कर दान करें व मंत्र का एक बार उच्चारण करें
मंत्र-श्री महालक्षमयै नम: दक्षिणाम समर्पयामि
 
रोग एवं ग्रह बाधा नाश हेतु प्रयोग-
हरे रंग से माथे को रंग कर सूर्य देवता के मन्त्रों का जाप करें तो बार-बार आने वाली मुसीबतों का नाश होता है
मंत्र-ॐ ऐं आदित्याय विद्महे सर्वारिष्ट निब्रित्तये फट
हल्दी से स्वस्तिक का चिन्ह बना कर पुजा करें
यथा शक्ति अन्न दान करें
 
शत्रु वशीकरण प्रयोग-
पीले रंग से माथे को रंग कर हनुमान जी के मन्त्रों का जाप करें तो, जो अकारण शत्रु बन जाते है तो भी वे मित्र हो जायेंगे
मंत्र-हं हनुमते रुद्रत्मकाय हुं फट
मंत्र जाप के बाद गाऊ ग्रास अवश्य दें
हनुमान जी को सिन्दूर भेंट करें
 
मनोवांछित शीघ्र विवाह प्रयोग-
गुलाबी रंग से माथे को रंग कर कामाख्यादेवी जी के मंत्र का जाप करें, तो मनोवांछित वर अथवा कन्या से विवाह होता है और शीघ्र विवाह होता है 
मंत्र-स्त्रीम स्त्रीम कामाख्ये प्रसीद प्रसीद स्वाहा:  
माता को पुष्प माला अर्पित करें
रुद्राक्ष माला का जाप करें

होली के दिन देवी कामाख्या जी की सोलह शक्तियों का नाम लेने से देवी प्रसन्न हो कर सब दुखों का नाश करती है, सावधानी पूरवक नाम लिख कर उनको बार बार कहना चाहिए, देवी के ये सोलह नाम हैं-अन्नदा,   धनदा,   सुखदा,   जयदा,   रसदा,   मोहवा,   रिद्धिदा,   सिद्धिदा,   ब्रिद्धिका,   शुद्धिका,   भुक्तिदा,   मुक्तिदा,   मोक्षदा,   शुभदा,   ज्ञानदा,   कान्तिदा, यदि आप दिव्य तेजस्विता प्राप्त करना चाहते हैं आध्यात्मिक तेज चाहते हैं तो होलिकाग्नी पर मंत्र ध्यान लगाना चाहिए

मंत्र-ॐ ह्रौं तेजस्विनी ज्वल्ल होलिकाग्ने स्वाहा:
विशेष बात यह है कि किसी 64 कला संपन्न दिव्य गुरु से दीक्षा अवश्य लेँ और होली जैसे पर्व के दौरान गुरु पूजन करें, शास्त्र कहता है कि संत दर्शन और उनके चरण वंदन से आयु आरोग्य प्राप्त होता है, तपस्वी गुरु कि चंपदुका पूजन से दिव्य प्रज्ञा प्राप्त होती है
 

 

No comments:

Post a Comment