Search This Blog

Loading...

Wednesday, 17 August 2011

तांत्रिक हनुमान यंत्र



प्रातः नित्यकर्मों से निवृत होकर एवं स्नान करने के बाद लाल वस्त्र पहनें। कुश या ऊन के आसन पर बैठकर हनुमानजी की मूर्ति पर या चित्र पर बने यंत्र (यहाँ बने यंत्र के समान) को सामने रखें और सिंदूर, चावल, लाल पुष्प, धूप, दीप आदि से पूजन करें। मोतीचूर (बूंदी) के लड्डू का भोग लगाएँ। पुष्प हाथ में लेकर निम्न श्लोक पढ़ें :-
अतुलित बलधामं हेम शैलाभदेहं,
दनुज-वन कृशानुं ज्ञानिनामग्रगण्यम्‌।
सकल गुणानिधानं वानराणामधीशं,
रघुपति प्रियभक्तं वातजातं नमामि
इसके पश्चात पुष्प अर्पित कर दें।
इसके बाद हनुमानजी का ध्यान करते हुए हनुमान चालीसा का पाठ करें। अंत में लाल चंदन की माला से ‘हं हनुमते रुद्रात्मकाय हुं फट्’ मंत्र का 108 बार नित्य जाप करें।

No comments:

Post a Comment