Search This Blog

Loading...

Saturday, 22 November 2014

इंतिहा

इंसाँ की ख़्वाहिशों की कोई इंतिहा नहीं
दो गज़ ज़मीं भी चाहिए दो गज़ कफ़न के बाद

(इंतिहा  =  उच्चतम सीमा)

Insaan ki khwaahishon ki koi intiha nahin
Do gaz jameen bhi chaahiye do gaz kafan ke baad

*****कैैफी आज़मी

3 comments: