Search This Blog

Loading...

Wednesday, 10 August 2011

ग्रहों की शांति

सूर्य - सूर्य ग्रह को अपने अनुकूल बनाने के लिए रूबी या मानिक सोने में बनवाकर दाहिने हाथ में अनामिका अंगुली में धारण करे और सूर्य देव को एक लोटा जल नित्य दे। अपने पिता की सेवा करे और गेहू,ताम्बा,कमल का फूल,लाल चन्दन,लाल वस्त्र,सोना,केशर आदि दान करे। ॐ सूम सूर्याय नमः का नित्य जप करे। 


 चंद्रमा - चंद्रमा को अपने अनुकूल बनाने के लिए मोती चाँदी में बनवाकर सोमवार को रात में दाहिने हाथ में छोटी अंगुली में धारण करे। शंकर जी की और उनके परिवार की पूजा करे साथ में अपनी माँ की भी सेवा करे और उनका आश्रीवाद ले। सफ़ेद चीजो का दान करे - चावल,सफ़ेद वस्त्र,सफ़ेद फूल,चीनी,घी,कपूर,दूध,दही |  ॐ चम चन्द्राय नमः का नित्य जप करे और रात में सफ़ेद चीजो का सेवन न करे। 




 मंगल - मंगल या मांगलिक दोष को दूर करने के लिए मूंगा ८ से १४ रति का सोने या चांदी में अनामिका अंगुली में धारण करे।मंगल यंत्र की पूजा करे | लाल रंग की चीजो का दान करे जैसे - लाल मसूर की दल,लाल कपडा,लाल फूल,लाल फल,ताम्बा आदि | ताम्बे का कड़ा हाथ में भी धारण कर सकते है | हर मंगलवार हनुमान जी का दर्शन करे और मीठी रोटी कुतो को खिलाये | अगर आप क़र्ज़ में डुबे है तो मंगल की साधना आपको ऋण से मुक्ति दिला सकती है | ऋण मोचक मंगल स्तोत्र का पाठ नित्य करे और भैरव जी की आराधना करे | ॐ भोम भोमाय नमः की एक माला का जप नित्य करे |



बुध - बुध के अशुभ लक्षण को दूर करने के लिए और शुभ फल को प्राप्त करने के लिए हर बुधवार को गणेश जी का दर्शन करे और गणेश चालीसा का पाठ करे | हरी दुब गणेश जी को चढ़ाये | बूंदी के लड्डू चढाने से गणेश जी और बुध दोनों प्रसन्न होते है | इसके अलावा छोटी कन्याओ को पेंसिल,किताब,कपडे,चोकलेट बुधवार को देने से भी बुध ग्रह खुश होता है |हरे मुंग,हरी सब्जी,हरे फल,हरे वस्त्र,हरे पत्ते आदि बुधवार को दान करे | स्कुलो में किताब,पेन,पेंसिल आदि दान करे,कुंवारी कन्याओ की शादी करवाए |
पन्ना 5 से 6 रति का सोने में बनवाकर दाहिने हाथ में सबसे छोटी वाली अंगुली में बुधवार सुबह धारण करे |
ॐ बुम बुधाय नमः की एक माला का जप नित्य करे |
 


गुरु - धन की प्राप्ति सिर्फ गुरु या वृहस्पति ही करवा सकते है बिना गुरु वृहस्पति के धन की प्राप्ति नहीं हो सकती है |गुरु को प्रसन्न करने के लिए हर गुरुवार को पीले वस्त्र धारण करे या पिली रुमाल पास में रखे |शरीर पर सोना धारण करे | हर गुरुवार पीली चने की दाल और गुड गाय को खिलाये | केले के पेड़ का पूजन करे परन्तु इस दिन केला न खाए और न ही प्याज और लहसुन ही खाए | 
पुखराज 7 रति का सोने में बनवाकर दाहिने हाथ में तर्जनी अंगुली में धारण करे | 
कृष्ण भगवान और अपने गुरु का ध्यान करने से वृहस्पति प्रसन्न होते है |
ॐ वृहम वृह्स्पते नमः और ॐ नमो भगवते वासुदेवाय की एक माला का जप नित्य करे |
घर में तुलसी का पेड़ लगाये और सुबह - शाम घी का दिवा जलावे पेड़ के पास | हर गुरुवार 11 दिवा घी का शाम को तुलसी जी के पेड़ के पास जलावे |



शुक्र - ये देत्यो के गुरु है लेकिन सांसारिक उपभोग की जितनी भी चीजे है वो शुक्र के सिवाय कोई नहीं दे सकता | शरीर की सुन्दरता,वाणी में मिठास,कलाकारी ये सब शुक्र ही दे सकता है |शुक्र को प्रसन्न करने के लिए सफ़ेद चीजो का दान हर शुक्रवार को करे|इसके अलावा हर शुक्रवार को खीर बनाकर लक्ष्मी माँ को चढ़ाये इससे आपके घर में अन्न - धन की कमी नहीं होगी |
हीरा 100 सेंट का या A.D 3 रति  का सोने में बनवाकर दाहिने हाथ में सबसे छोटी वाली अंगुली में शुक्रवार को शाम को धारण करे | 
किसी सुन्दर कन्या को गहने,वस्त्र,परफ्यूम आदि देने से भी शुक्र प्रसन्न होता है |
ॐ शुम शुक्राय नमः इस मन्त्र की एक माला का जप नित्य करे |


शनिदेव जी - शनिदेव जी की नाराजगी इन्सान को आसमान से उतार कर जमीं पर ले आती है | शनिदेव जी कर्म के दाता है जो इन्सान जितनाव्यक्ति को  परिश्रम और कर्म करेगा शनिदेव जी उतना ही लाभ देंगे | 
इनको प्रसन्न करने के लिए काले वस्त्र धारण न करे | कला बेल्ट,कला पर्स,काले जूते - चप्पल न पहने | हर शनिवार को काली चीजो का दान करे | अपने पहने हुए कपडे और जूते - चप्पल शनिवार को दान करे | 

हर शनिवार को सरसों का तेल या तिल का तेल मंदिर में चढ़ाये |

नौकरों,लूले,लंगड़े इन सब की दुआ लेने की कोशिश करे बददुआ न ले |

हनुमान चालीसा और बजरंग बाण का पाठ नित्य करे | रात में घर में अँधेरा न रखे और न ही अँधेरे में सोये | 

शंकर जी को जल और कच्चा दूध चढ़ावे | हर मंगलवार हनुमान जी का दर्शन करे | हर शनिवार शनिदेव जी का दर्शन करे |

ॐ शम शनिश्चराय नमः इस मन्त्र की एक माला का नित्य जप करे |


 

No comments:

Post a Comment