Search This Blog

Monday, 29 August 2011

कर्ज बाधा योग


  1. यदि आपकी पत्रिका मे प्रबल कर्जबाधा योग है तो, आप नियमित रुप से श्री शनि चालीसा का पाठ करे तथा शुक्लपक्ष के प्रथम शनिवार से आरंभ कर लगातार तीन शनिवार पीपल के नीचे एक सूखे खोपरे में शक्कर व तिल भरकर जमीन में दबाये तथा सरसो के तेल का दीपक लगावें। यह उपाय करने से कितनी भी आवश्यकता हो आपको कर्ज लेने की आवश्यकता नहीं होगी।
  2. यह उपाय उनके लिए है -
    (अ) जो कर्ज ले तो चुके हैं परंतु वापस नहीं कर पा रहे हैं।
    (ब) जिनकी पत्रिका में कर्ज का योग है परंतु जातक मन से कर्ज लेने का इच्छुक नहीं है।
    इसके लिये सर्वप्रथम आपको पांच लघु नारियल तथा इतने ही अभिमंत्रित गोमती चक्र की आवश्यकता होती है। यह उपाय आप किसी भी चतुर्थी तिथि से आरंभ कर सकते हैं। इस दिन आप सुबह श्री गणेशजी का मानसिक स्मरण कर अपनी समस्या से मुक्ति हेतु प्रार्थना करे। अब आप एक हरे वस्त्र में एक लघु नारियल, एक गोमती चक्र, 21 हरी मूंग के दाने तथा एक बेसन का लड्डू रखकर इसकी एक पोटली बना लें। इसके पश्चात् निकट के ही श्री गणेश मन्दिर में जाकर, शुद्ध घी का दीपक तथा धूप-अगरबत्ती अर्पित करने के साथ 11 मोदक का भोग लगावें । इसके बाद एक बार श्री गणेश अथर्वशीर्ष का पाठ करें। पाठ करने के पश्चात् अपने साथ लाई हुई पोटली को श्री गणेश के चरणों में रखें व सात परिक्रमा कर लें। इसके बाद लगातार पाच दिन तक यह क्रिया करें। छठे दिन आप निकट के किसी भी शिव मन्दिर में जाकर कच्चे दूध से स्नान कराकर, मा पार्वती को पीली चुनरी भेंट करें । उपरोक्त उपाय करने से सभी को चमत्कारिक रुप से लाभ प्राप्त होगा।

No comments:

Post a Comment