Search This Blog

Loading...

Saturday, 16 July 2011

शनि के दुष्प्रभावों को दूर करने के उपाय:



शनि के दुष्प्रभावों को कम करने के लिए कुछ उपाय, अलग-अलग ग्रंथों में अलग-अलग तरह से बताए गए हैं जिनमें से कुछ उपायों का विवरण निम्नानुसार है।
-शनि की महादशा, अंतर्दशा, साढे़साती या ढैया के दौरान मांस एवं मंदिरा का सेवन नहीं करना चाहिए।
- काले रंग के वस्त्र में 740 ग्राम काले उड़द और तांबे का सिक्का बांधकर बहते हुए पानी में बहाने से लाभ होता है।
- शनिवार को श्रद्धा एवं विश्वास पूर्वक व्रत करें।
- शनि से संबंधित वस्तुएं घर में स्थापित करें।
- लोहे की वस्तुएं दान करें।
- कर्क राशि वाले जातक तांबे का सिक्का मुख्य द्वारा के नीचे गाड़ें।
- शनि स्तोत्र का पाठ व जप करें।
- घर में भूरे पत्थर की शिला स्थापित करना शुभ है।
- शनि से संबंधित वस्तुएं (तेल, चमड़ा, तांबा, वस्त्र, लोहा, काले तिल आदि) दान में न लें।
- बड़े बूढ़ों का आशीर्वाद लें व उनकी सेवा करें।
- लोहे का बिना जोड़ वाला छल्ला दायें हाथ की बड़ी उंगली में पहनें।
- शुक्रवार की रात 750 ग्राम काले तिल भिगोकर सुबह शनिवार को काले घोड़े को खिलाएं।
- अपने चरित्र का विशेष ध्यान रखें।
- पैतृक संपत्तियों का विक्रय किसी भी कीमत पर न करें।
- शनिवार को न तो लोहा खरीदें और न हीं बेचें।
- शनिवार को भी सूर्य को अर्घ्य दें।
- वृष राशि आदि में यदि साढ़ेसाती या ढैया हो, तो अमावस्या को किसी नाले में नीले फूल डालें।
- अपने मकान व बिस्तर के चारों कोनों पर लोहे की चार कीलें गाड़ें।
- घर के अंधेरे कमरों में लोहे के पात्रों में सरसों का तेल भरकर रखें।
- यदि संभव हो तो काला कुत्ता पालें।
- धन की रक्षा के लिए एक नारियल काले कपड़े में लपेट कर तिजोरी में रखें।
- शनिवार को गुड़ में काले तिल के लड्डू बनाकर दान करें।
- शनिदोष निवारक यंत्र: किसी योग्य तांत्रिक या गुरु द्वारा प्रदत्त शनि दोष निवारक यंत्र प्राण प्रतिष्ठित कर घर में स्थापित करें या करवाएं। इसके अतिरिक्त इस यंत्र का विधिपूर्वक पूजन-अर्चन व साधना कर गले या बाजू में बांधने से शनि की कृपा दृष्टि सदैव बनी रहती है।
- संपूर्ण बाधा मुक्ति यंत्र प्राप्त कर पूजा स्थल पर प्राणप्रतिष्ठित कर रखें एवं वहां नित्यप्रति धूप एवं दीप जलाएं।
- लाभकारी महिमा मंडित पारद माला: किसी योग्य तांत्रिक गुरु द्वारा निर्मित व प्राण प्रतिष्ठित, महिमामंडित शुद्ध पारदमाला धारण करने से भी साढ़ेसाती, ढैया या शनि की दशा-अंतर्दशा के दोष निवारण में लाभ होता है।
- शनि दोष निवारक पिरामिड: किसी योग्य गुरु द्वारा निर्मित व प्राण-प्रतिष्ठित शनि पिरामिड का प्रयोग कर आप शनि की साढ़ेसाती या ढैया के दोष का निवारण कर सकते हैं।

No comments:

Post a Comment