Search This Blog

Friday, 8 July 2011

नौ ग्रह और मानव शरीर


कुंडली के नौ ग्रह मानव शरीर के अवयवों एवं संबंधी मित्रों के परिचायक हैं। ग्रहों से हमें विभिन्न जानकारियां मिलती है।

1.सूर्य-जन्म के समय सूर्य की स्थिति से जातक की देह, पिता, पराक्रम, धन, प्रसिध्दि व आसक्ति का विचार किया जाता है। यह पित्त प्रधान है।

2. चंद्र - यह वात व कफ प्रधान है। इसकी स्थिति से बुध्दि, मानसिक अवस्था, व्यावहारिक ज्ञान, माता, राय सुख व संचार सुख का विचार किया जाता है।

3. मंगल - यह पित्त प्रधान ग्रह है। इसके द्वारा साहस, आत्मबल, रोग, छोटे बहिन-भाई, भूमि, शत्रु, रक्त विकार का विचार किया जाता है।

4. बुध -यह वात पित्त कफ प्रधान है। इससे विद्या, विवेक, व्यवहार बुध्दि, मामा, वाकपटुता, मित्र, वाणिय, गणित आदि का विचार किया जाता है।

5. बृहस्पति -यह कफ प्रधान ग्रह है। इससे शरीर यष्टि, सुख, पुत्र, विद्या, ज्ञान, धन व धार्मिकता का विचार किया जाता है।

6. शुक्र-यह वात व कफ प्रधान ग्रह है। वस्त्राभूषण, वाहन सुख, काम सुख, व्यापार, कला का विचार इससे किया जाता है।

7. शनि-यह वातप्रधान ग्रह है। इसकी? स्थिति से जातक की आयु, जीविका, नौकरों से सुख, मृत्यु का कारण, रायदंड, कारावास आदि का विचार किया जाता है।

राहु-केतु को प्राय: छाया ग्रह माना जाता है। राहु के द्वारा राजनीति, स्वार्थ-कूटनीति व पितामह का विचार किया जाता है।
केतु के द्वारा मातामह, आध्यात्म, मोक्ष, विरक्ति, सांसारिक रुचि का विचार किया जाता है।

No comments:

Post a Comment