Search This Blog

Thursday, 30 June 2011

भौमवती अमावस्या




भौमवती अमावस्या

जब मंगलवार के दिन अमावस्या आयें, तो उसे भौमवती अमावस्या के नाम से जाना जाता है, अमावस्या तिथि प्रत्येक धर्म कार्य के लिए अक्षय फल देने वाली व अत्यंत पवित्र होती है, साथ ही पितरों की शान्ति के लिये भी अमावस्या व्रत पूजन का विशेष महत्व है, शास्त्रों के अनुसार देवों से पहले पितरों को प्रसन्न करना चाहिए, जिन व्यक्तियों की कुण्डली में पितृ दोष हो, संतान हीन योग बन रहा हो या फिर नवम भाव में राहू नीच के होकर स्थित हो, उन व्यक्तियों को यह भौमवती अमावस्या बरदान स्वरुप है, भौमवती अमावस्या की रात शाम और रात  को मंत्र साधना करने से भूमि भवन संपती और जायदाद की प्राप्ति होती है, विष्णु पुराण के अनुसार श्रद्धा भाव से अमावस्या को साधना करने से पितृ्गण ही तृ्प्त नहीं होते, अपितु ब्रह्मा, इंद्र, रुद्र, अश्विनी कुमार, सूर्य, अग्नि, अष्टवसु, वायु, विश्वेदेव, ऋषि, मनुष्य, पशु-पक्षी और सरीसृप आदि समस्त भूत प्राणी भी तृप्त होकर प्रसन्न होते है, आ हम आपको बताने जा रहे है कि कैसे इस भौमवती अमावस्या की शाम या फिर रात को आप अपनी राशी के मंत्र से संपत्ति सुख प्राप्त कर सकते हैं, संपत्ति से जुड़े समस्त विवादों से मुक्ति पा सकते हैं, अपना घर या फार्म हॉउस पा सकते हैं, क्योंकि आज है "मंगल की मंगलमय भौमवती अमावस्या"




1)मेष राशि 
माँ दुर्गा जी के चित्र को सामने रख कर मंत्र जाप करना चाहिए 
मूर्ती या चित्र को लाल रंग के वस्त्र पर स्थापित करें 
गूगल माता को अर्पित करना चाहिए 
कमलगट्टे की माला से मंत्र का जाप करें 
मंत्र-ॐ सौभाग्य मंडलात्मिके स्वाहा: 
दूध से खीर बना कर देवी को चढ़ाएं व बाँटें 
उत्तर दिशा की ओर मुख कर मंत्र का आप करें
मंत्र संख्या कम से कम 5 माला होनी चाहिए 
 
2)बृष राशि 
माँ बगलामुखी के चित्र को सामने रख कर मंत्र जाप करना चाहिए 
मूर्ती या चित्र को पीले रंग के वस्त्र पर स्थापित करें 
कच्ची हल्दी की गांठें देवी को अर्पित करें 
चन्दन की माला से मंत्र का जाप करें 
मंत्र-ॐ ह्रीं गंधमाल्य शोभने स्वाहा:
नारियल देवी को अर्पित कर फोड़ें 
पूर्व की ओर मुख कर मंत्र का जाप करें 
मंत्र संख्या कम से कम 5 माला होनी चाहिए 

3)मिथुन राशी 
माँ लक्ष्मी के चित्र को सामने रख कर मंत्र जाप करना चाहिए 
मूर्ती या चित्र को चमकदार लाल रंग के वस्त्र पर स्थापित करें 
दक्षिणावर्ती शंख देवी को अर्पित करें 
कमलगट्टे की माला से मंत्र का जाप करें 
मंत्र-ॐ श्रीं पद्माक्षी नमोस्तुते 
श्रृंगार सामग्री देवी को अर्पित करें 
उत्तर की ओर मुख कर मंत्र का जाप करें 
मंत्र संख्या कम से कम 7 माला होनी चाहिए 

4)कर्क राशि 
माँ तारा के चित्र को सामने रख कर मंत्र जाप करना चाहिए 
मूर्ती या चित्र को गाढे लाल रंग के वस्त्र पर स्थापित करें 
कुछ कौड़ियाँ  देवी को अर्पित करें 
रुद्राक्ष की माला से मंत्र का जाप करें 
मंत्र-ॐ स्त्रीं नील सरस्वत्यै हुं
एक कोरा कलश देवी को अर्पित करें  
उत्तर की ओर मुख कर मंत्र का जाप करें 
मंत्र संख्या कम से कम 6 माला होनी चाहिए 

५)सिंह राशि 
माँ दुगा के चित्र को सामने रख कर मंत्र जाप करना चाहिए 
मूर्ती या चित्र को लाल रंग के वस्त्र पर स्थापित करें 
कुछ लाल चूड़ियाँ देवी को अर्पित करें व बाद में किसी कन्या को दे दें 
रक्त चन्दन की माला से मंत्र का जाप करें 
मंत्र-ॐ ह्री दुर्गे दुर्गति नाशिनी स्वाहा 
एक पूजा का नारियल देवी को अर्पित करें  
उत्तर की ओर मुख कर मंत्र का जाप करें 
मंत्र संख्या कम से कम 7 माला होनी चाहिए 

6)कन्या राशि 
माँ काली के चित्र को सामने रख कर मंत्र जाप करना चाहिए 
मूर्ती या चित्र को नीले या लाल रंग के वस्त्र पर स्थापित करें 
पंचामृत देवी को अर्पित करें 
रुद्राक्ष की माला से मंत्र का जाप करें 
मंत्र-ॐ क्रीं ह्रीं ह्रुं कालिके स्वाहा 
पेठे का प्रसाद देवी को अर्पित करें  
दक्षिण की ओर मुख कर मंत्र का जाप करें 
मंत्र संख्या कम से कम 5 माला होनी चाहिए 

7)तुला राशि 
माँ लक्ष्मी के चित्र को सामने रख कर मंत्र जाप करना चाहिए 
मूर्ती या चित्र को गोटेदार लाल रंग के वस्त्र पर स्थापित करें 
लाल कनेर के पुष्प देवी को अर्पित करें 
कमलगट्टे की माला से मंत्र का जाप करें 
मंत्र-ॐ श्रीं परात्पर नायिके स्वाहा 
मिष्ठान्न का प्रसाद देवी को अर्पित करें और बांटे   
पश्चिम की ओर मुख कर मंत्र का जाप करें 
मंत्र संख्या कम से कम 6 माला होनी चाहिए 

8)बृश्चिक राशि 
माँ कात्यायिनी के चित्र को सामने रख कर मंत्र जाप करना चाहिए 
मूर्ती या चित्र को भगवे रंग के वस्त्र पर स्थापित करें 
पंचमेवा देवी को अर्पित करें 
रुद्राक्ष की माला से मंत्र का जाप करें 
मंत्र-ॐ ह्रीं कात्यायिनी सौभाग्य नायिके स्वाहा 
फलों का प्रसाद देवी को अर्पित करें  
पूर्व दिशा की ओर मुख कर मंत्र का जाप करें 
मंत्र संख्या कम से कम 6 माला होनी चाहिए 

9)धनु राशि 
माँ छिन्नमस्ता के चित्र को सामने रख कर मंत्र का जाप करना चाहिए 
मूर्ती या चित्र को गुलाबी रंग के वस्त्र पर स्थापित करें 
शहद मेवा घी देवी को अर्पित करें 
रुद्राक्ष की माला से मंत्र का जाप करें 
मंत्र-ॐ ह्रुं ह्रीं वज्र वैरोचिन्ये स्वाहा 
मीठे पान का प्रसाद देवी को अर्पित करें  
उत्तर की ओर मुख कर मंत्र का जाप करें 
मंत्र संख्या कम से कम 7 माला होनी चाहिए 

10)मकर राशि 
माँ पार्वती के चित्र को सामने रख कर मंत्र जाप करना चाहिए 
मूर्ती या चित्र को रन बिरंगे या मिश्रित रंग के वस्त्र पर स्थापित करें 
पुष्पमाला देवी को अर्पित करें 
चन्दन की माला से मंत्र का जाप करें 
मंत्र-ॐ ह्रीं मणिद्वीप निवासिनिये श्रीं स्वाहा 
खीर का प्रसाद देवी को अर्पित करें  
उत्तर की ओर मुख कर मंत्र का जाप करें 
मंत्र संख्या कम से कम 6 माला होनी चाहिए 

11)कुम्भ राशि 
देवी सिद्धिदात्री के चित्र को सामने रख कर मंत्र जाप करना चाहिए 
मूर्ती या चित्र को हल्के सफेद या हल्के पीले रंग के वस्त्र पर स्थापित करें 
चौमुखा दिया या अखंड जोत जला कर देवी को अर्पित करें 
मोती की माला से मंत्र का जाप करें 
मंत्र-ॐ हसौम क्रौं सिद्दिदात्री देव्यै स्वाहा: 
केले का फलाहार देवी को अर्पित करें  
पूर्व की ओर मुख कर मंत्र का जाप करें 
मंत्र संख्या कम से कम 7 माला होनी चाहिए 

12)मीन राशि 
माँ काली के चित्र को सामने रख कर मंत्र जाप करना चाहिए 
मूर्ती या चित्र को काले रंग के वस्त्र पर स्थापित करें 
पान लौंग इलाइची व मिस्री देवी को अर्पित करें 
रुद्राक्ष की माला से मंत्र का जाप करें 
मंत्र-ॐ क्रीं क्रीं क्रीं ह्रीं ह्रीं ह्रुं महादव्ये स्वाहा  
नारियल और पेठे का प्रसाद देवी को अर्पित करें  
दक्षिण की ओर मुख कर मंत्र का जाप करें 
मंत्र संख्या कम से कम 5 माला होनी चाहिए 

No comments:

Post a Comment