Search This Blog

Wednesday, 22 June 2011

उपाय

श्रद्धा एवं विश्वास को आधार में रखकर, उनमें से किसी एक या दो उपायों को किया जाए तो निश्चय ही गृ्ह कलह से राहत प्राप्त कर सकेंगें.:-----
1.जिस परिवार में नित्य क्लेश, कलह, अशांती का वास रहता हो तो उससे मुक्ति एवं सुख-सौहार्द की अभिवृ्द्धि हेतु ऎसे परिवार की गृ्हणी को सूर्योदय से पूर्व ही जगना चाहिए और घर की साफ-सफाई इत्यादि कर लेनी चाहिए. तत्पश्चात स्नानादि क्रिया से निवृ्त हो सूर्योदय समय सूर्यदेव को अर्घ्य देना चाहिए. ऎसा करने से सिर्फ कुछ ही दिनों में गृ्ह क्लेश से मुक्ति मिलने लगती है और धीरे धीरे परिवार के सभी मतभेद समाप्त हो,आपसी प्रेम एवं सौहार्द का वास होने लगता है.
2. यदि कलह पति-पत्नि के मध्य है तो दम्पति को वृ्हस्पतिवार के दिन श्री लक्ष्मीनारायण के मन्दिर में दर्शनार्थ अवश्य जाना चाहिए. वहाँ बेसन की कोई मिठाई प्रशाद रूप में वितरित करें.
3. घर के पूजनस्थल में एक शंख अवश्य रखें. नित्य अथवा सप्ताह में कम से कम दो बार ( किसी भी दिन) प्रात: समय शंख में जल भरकर रखें तथा संध्याकाल में उस जल को घर में चारों ओर थोडा थोडा छिडक दें.
4. घर की उत्तर दिशा में स्फटिक का श्रीयन्त्र तथा चाँदी की छोटी छोटी चरण पादुका बनवाकर स्थापित करें.
व्यक्ति को ऋण मुक्त कराने में यह उपाय अवश्य ही सहायता करेगा:------
न्यूनतम दस मंगलवार लगातार नियमित रूप से शिव लिंग पर मसूर की दाल ॐ ऋण मुक्तेश्वर महादेवाय नम: मन्त्र का उच्चारण करते हुए अर्पित करें तो अवश्य ही ऋण से मुक्ति की परिस्थितियाँ निर्मित होने लगेंगी.

No comments:

Post a Comment