Search This Blog

Loading...

Wednesday, 7 November 2012

दीपावली टोटके

दीपावली पर किये जाने वाले टोटके 

दीपावली की रात्रि को तंत्रशास्त्र में महानिशा कहा गया है | महारात्रि नाम के अनुरूप इस रात्रि का तांत्रिक प्रयोगों में विशिष्ट महत्व है | यही कारण है की विशिष्ट तांत्रिक प्रयोग इस रात्रि को हि किये जाते हैं | यद्यपि यह प्रयोग अतार्किक , अत्यंत सरल एवं अंध विश्वास जैसा लगता है किन्तु आप इसे पूर्ण विश्वास एवं श्रद्धा के साथ अवश्य करे आपको भी अपने जीवन में उल्लेखनीय परिवर्तन दिखेगा |

१  दीपावली कि रात्रि को स्थिर लग्न में एक चौकी पर गणेश जी कि मूर्ति स्थापित करके उसका  षोडशोपचार पूजन करें | इसके उपरांत निम्नलिखित स्तोत्र का पाठ करें

ऊँ नमो विघ्नराजाय सर्वासौख्यप्रदायिने  
दुष्टारिष्टविनाशाय  पराय परमात्मने ||
लम्बोदर महाविर्यम नागयज्ञोपशोभितम |
अर्धचन्द्रधरं देवं विघ्नव्यूह विनाशनम ||
ऊँ ह्रां ह्रीं ह्रूं ह्रैं ह्रों ह्रः  हेरम्बाय नमो नमः |
सर्वसिद्धिप्रदोऽसी त्वं सिद्धिबुद्धिप्रदो भव ||
चिंतितार्थप्रदस्वम हि सततं मोदकप्रियः |
सिंदुरारुणवस्त्रैश्च पूजितो वरदायक: ||
इदं गणपतिस्तोत्रं य: पठेत भक्तिमान नर: |
तस्य देहं च गेहं च स्वयं लक्ष्मिर्न मुञ्चति ||

इस स्तोत्र का पाठ एक वर्ष तक नियमित रूप से करते रहें आपको निश्चित हि लाभ और सुख समृधि कि प्राप्ति होगी |

२ दीपावली के दिन पीपल के वृक्ष के नीचे तेल का दीपक जलाएं | फिर घर वापस आ जाएँ एवं पीछे मुड़कर न देखें | यह प्रयोग प्रत्येक शनिवार को एक वर्ष तक करें | ऐसा करने से धन लाभ होगा |

३ जीवन में उन्नति प्राप्त करने के लिए जातक को चांदी में निर्मित एवें प्राण प्रतिष्ठित किया हुआ नवरत्न लोकेट दीपावली के दिन धारण करना चाहिए | नवरत्न जडित सामग्री धारण करने के पश्चात जातक सुख समृद्धि और सफलता कि और अग्रसर होने लगता है |

४ अगर आप धन संचय नहीं कर प् रहे हैं , तो आपको दीपावली के दिन एक रेशमी लाल रुमाल में हथत्ताजोड़ी बांधकर अपने घर या तिजोरी में रखनी चाहिए |

५ यदि दुकान कि बिक्री कम हो गयी हो , तो शनिवार के दिन  शाम के समय हाथ में एक सुपारी और तांबे का सिक्का ले जाकर पीपल के पेड के नीचे रख आयें | रविवार को उस पेड का एक पत्ता लाकर गद्दी के नीचे रखें तो सदैव ग्राहक अनुकूल बने रहेंगे |

६ दीपावली कि रात्रि में लक्ष्मी पूजन के उपरांत घर में सभी कक्षों में शंख और डमरू बजाना चाहिए | ऐसा करने से अलक्ष्मी और दरिद्रता बाहर निकलती है और लक्ष्मी प्रवेश करती है |

७ घर के मुख्य द्वार पर दीपावली के दिन कुमकुम से स्वास्तिक बनायें तथा बासमती चावल कि एक ढेरी पर एक सुपारी में कलावा बांधकर रख दें | यह धन प्राप्ति का विशिष्ट प्रयोग हैं |

८ व्यवसाय में यदि साझेदारों से मतभेद चल रहा हो , तो दीपावली की रात्रि में कच्चा सूत लेकर माता लक्ष्मी के सामने बैठकर उसे बटना चाहिए तथा उसमे रोली के छीटे लगाकर अपने व्यवसायिक प्रतिष्ठान पर टांग देना चाहिए | ऐसा करने से साझेदारी में स्थायित्व बना रहता है | प्रत्येक दिवाली को यह क्रिया दोहरानी चाहिए |

९ दीपावली के दिन सायंकाल लक्ष्मी पूजन में पांच कौड़ी तथा एक चुटकी अक्षत ( बिना टूटे चावल ) नए सफ़ेद कपडे में बांधकर रखें और दूसरे दिन स्नानादि से निवृत होकर पूर्ण श्रद्धा के साथ उन्हें अपनी तिजोरी में रख ले | ऐसा करने से आपके घर में लक्ष्मी स्थायी रूप से निवास करेगी |

१० दीपावली की रात्रि को लक्ष्मी पूजन के समय ११ सफ़ेद गूंजा को रखें | दूसरे दिन स्नानादि से निववृत होकर श्रद्धापूर्वक उन्हें अपनी तिजोरी में रख ले | ऐसा करने से अटूट लक्ष्मी का निवास होता है | 

No comments:

Post a Comment