Search This Blog

Loading...

Thursday, 30 August 2012

हवन के लिए अलग-अलग मन्त्र

हवन के लिए अलग-अलग मन्त्र

ग्रहों की पीडा हेतु पूर्ण साधना के अन्तर्गत सभी ग्रहों को शान्त करने वाला मन्त्र और हवन का पूरा विधान दिया गया है। किसी भी ग्रह के कुपित होने पर भी इसी प्रकार हवन किया जाता है। परन्तु इसमें दो अन्तर होते हैं। ग्रह विशेष के लिए हवन करते समय उस ग्रह को प्रिय वृक्ष की लकडी का प्रयोग करते हैं। इसके साथ ही उस ग्रह से सम्बन्धित मन्त्र ही बोला जाता है। नीचे पहले इन ग्रहों से सम्बन्धित लकडियां और फिर उनके मन्त्र दिए जा रहे हैं-

सूर्य - मदार          चंद्र - पलाश             मंगल - खैर  
बुध - अपमार्ग       गुरू - पीपल             शुक्र - गूलर
शनि - शर्मा           राहु - दूर्वा               केतु - कुशा   
   
सूर्य - ओम ह्नौं ह्नीं ह्नौं स: सूर्याय स्वाहा।
चंद्र - ओम स्त्रौं स्त्रीं स्त्रौं स: सोमाय स्वाहा।
मंगल - ओम क्रौं क्रीं क्रौं स: भोमाय स्वाहा।
बुध - ओम ह्नौं ह्नीं स: बुधाय स्वाहा।
गुरू - ओम ज्ञौं ज्ञीं ज्ञौं स: बृहस्पतयै स्वाहा।
शुक्र - ओम ह्नौं ह्नीं ह्नौं स: शुक्राय स्वाहा।
शनि - ओम षौं षीं षौं स: शनैश्चयराय स्वाहा।
राहु - ओम छौं छीं छौं स: राहवे स्वाहा।
केतु - ओम फौं फीं फौं स: केतवे स्वाहा।

No comments:

Post a Comment