Search This Blog

Loading...

Saturday, 24 September 2011

पर्सनेलिटी

ज्योतिष से निखारें अपनी पर्सनेलिटी


  • युवावस्था जीवन का इम्पोर्टेंट पड़ाव है जहाँ व्यक्तित्व यानी पर्सनेलिटी की खूबियों का प्रभाव हर क्षेत्र में पड़ता है चाहे फ्रेंड्स में पॉप्युलर होने की बात हो, इंटरव्यू में सिलेक्ट होने की, प्रोफेसर्स की आँखों का तारा बनने की या गर्लफ्रेंड द्वारा सराहे जाने की... मगर ऐसे में यदि हमारे व्यक्तित्व में किसी कमी के चलते यदि हम ऐसी किसी 'गिफ्ट' से वंचित हो जाए तो?

    ऐसा न हो इसके लिए सबसे पहले तो जरूरी है अपनी कमियों को जानने-समझने का भी प्रयास किया जाए तभी तो उनमें सुधार किया जा सकता है... ऐसे में ज्योतिष आपकी मदद कर सकता है।

    वास्तव में सभी की पर्सनेलिटी उसकी जन्मपत्री की राशि/लग्न के ग्रहानुसार निर्धारित होती है और उस ग्रह की प्रवृत्तिनुसार व्यक्ति आचरण करता है। ऐसे में ग्रह की खूबियाँ, कमियाँ सभी उसके जीवन का, नेचर का और पर्सनेलिटी का हिस्सा बनते जाते हैं।

    आइए जानें आपके पर्सनेलिटी की कमियों को-

    1. यदि आप मेष लग्न/राशि के हैं तो आक्रामकता, गुस्सा और अहंकार आपकी कमी है। आप आसानी से कन्वेंस नहीं होते और राँग होने पर भी अपने आपको सही साबित करने का प्रयास करते हैं।
    सुझाव : परिस्थिति को समझकर रिएक्ट करने व सामने वाले को सहिष्णुता से लेने की आदत डालें।

    2. यदि आप वृषभ राशि/लग्न के हैं, भावुकता आपकी कमजोरी हो सकती है। मित्रों पर अति निर्भरता व अति विश्वास से पारिवारिक रिश्तों में खटास आ सकती है। अपने 'व्यूज' खुद निर्धारित करके उन पर बेवजह अड़े रहना भी आपकी कमी है। व्यसनों की ओर आकर्षण भी स्वाभाविक है।
    सुझाव : भावुकता पर निर्भरता की बजाय थोड़ा 'प्रैक्टिकल' हो जाएँ। मूड पर भी नियंत्रण रहे।

    3. यदि आप मिथुन राशि/लग्न के हैं तो वाकपटुता आपका गुण-अवगुण दोनों हो सकती है। सतत तर्क करने की आदत लोगों में अलोकप्रिय बना सकती है। 'क्रिटिसाइज' करना भी मुश्किल में डाल सकता है।
    सुझाव : धैर्य व शांति से काम लें। दूसरों की खूबियों को देखें। बोलने से पहले सोचें।

    4. यदि आप कर्क राशि के हैं तो अति भावुकता से आपको तकलीफ हो सकती है। कॉन्फिडेंस लूज होना आपकी असफलता का कारण बनेगा और निर्णय लेने में दुविधा रहेगी, डर रहेगा।
    सुझाव : गुरु की सलाह लें, भावुकता पर नियंत्रण रखें।

    5. यदि आप सिंह लग्न/राशि के हैं तो ईगो, क्रोध व अति उदारता आपकी स्वाभाविक कमियाँ होंगी। अति विश्वास जहाँ धोखे में डालेगा, क्रोध से अपने भी शत्रु बन सकते हैं।
    सुझाव : ध्यान करें, गुस्से पर नियंत्रण रखें। मित्रों से दूरी रखें।

    ND
    6. कन्या लग्न/राशि के युवा लॉजिकल थिंकिंग रखेंगे मगर मौका आने पर पीछे हटना, अचानक हाइपर हो जाना इन्हें परेशानी में डाल सकता है।
    सुझाव : अध्ययन-मनन करें। धैर्य व शांति से काम करें।

    7. तुला राशि/लग्न होने पर थोड़ी इमोश्नल, थोड़ा गुस्सा, आदर्शवाद आपके लिए मुश्किल खड़ी करेंगे। मौके का फायदा उठाने में चूक होती रहेगी। मित्रों पर खर्च होगा।
    सुझाव : सोच-समझकर मित्र बनाएँ। कला में रुचि को बढ़ाएँ।

    8. वृश्चिक राशि/लग्न हो तो ईगो, अड़ियलपन और खानपान की गलत आदतें नुकसान देंगी। जल्दबाजी में निर्णय लेने से परेशानी में पड़ेंगे।
    सुझाव : खानपान सुधारें, बड़ों की सलाह से निर्णय लें।

    9. यदि आप धनु राशि/लग्न के हैं तो अति आदर्शवादिता, अति विश्वास व बुराइयों के प्रति विरोध (बिना सोचे) आपके लिए नुकसानदायक हो सकता है। रूढ़िवादी होने का भी तमगा मिल सकता है।
    सुझाव : प्रैक्टिकल होने का प्रयास करें। गुरु की सलाह लें। अति विश्वास से बचें।

    10. मकर राशि/लग्न होने पर हीन भावना, क्रिटिसाइज करना व ओव्हर एक्सपेक्टेशन रखना आपकी कमी है। शरीर में आलस्य व जुबान पर कटुता आपको मुश्किल में डाल सकती है।
    सुझाव : सकारात्मक दृष्टिकोण अपनाएँ। जुबान पर नियंत्रण रखें। आलोचना से बचें।

    11. कुंभ राशि/लग्न होने पर अति गंभीरता, जीवन के प्रति अपना दृष्टिकोण व अड़ियल रुख आपकी तरक्की में बाधा बन सकता है। अति स्पष्टवादिता भी नुकसान दे सकती है।
    सुझाव : सबको साथ लेकर चलें। थोड़ा फ्लेक्सिबल रुख भी अपनाएँ।

    12. मीन राशि/लग्न होने पर खयाली पुलाव पकाना, वास्तविकता से दूर रहना व अलग सोच रखना आपको मुश्किल में डालेगा। बिना सोचे-समझे बोलना भी परेशानी बन सकता है।
    सुझाव : यथार्थ की जमीन पर रहें। वाणी पर नियंत्रण रखें। आलस्य न करें।

No comments:

Post a Comment