Search This Blog

Loading...

Saturday, 6 August 2011

शिवलिंग

शिवलिंग के प्रकार व लाभ
  1. '' गन्धलिंग `` दो भाग कस्तुरी, चार भाग चन्दन और तीन भाग कुंकम से बनाए जाते हैं शिव-सायुज्यार्थ इसकी अर्चना की जाती है।
  2. शर्करामयलिंग - सुखप्रद है।
  3. सोंढ, मिर्च पीपल के चूर्ण में नमक मिलाकर जो शिवलिंग बनाया जाता है। उसका प्रयोग व वशीकरण आदि अभिचार में किया जाता है।
  4. यज्ञकुण्ड से ली गई भस्म से जो शिवलिंग बनता है उसका पूजन अभीष्ट  देने वाला होता है।
  5. बाँस के अंकुर को शिवलिंग के समान काटकर पूजा करने से पंथ वृद्धि होती है।
  6. दही को कपडे में बांधकर निचोड़ देने के पश्चात उससे जो शिवलिंग बनता है उसका पूजन लक्ष्मी और सुख देने वाला होता है।
  7. गुड़ में अन्न चिपकाकर शिवलिंग बनाकर पूजा करने से कृषि उत्पादन अधिक होता है।
  8. किसी भी फल को शिवलिंग के समान रखकर उसकी पूजा करने से फलवाटिका में अधिक फल होता हैं।
  9. दुर्वा को शिवलिंगाकार गूंथकर उसकी पूजा करने से अकाल-मृत्यु का भय दूर होता है।
  10. मोती के बने शिवलिंग का पूजन स्त्री की भाग्य वृद्धि करता है।
  11. स्वर्ण निर्मित शिवलिंग समृद्धि का वर्द्धन करता है।
  12. चांदी का शिवलिंग धन-धान्य बढ़ाता है।
  13. पीपल का शिवलिंग दरिद्रता का निवारण करता है।
  14. लहसुनिया का शिवलिंग शत्रुओं का नाशक होता है, विजयदाता है।

No comments:

Post a Comment