Search This Blog

Tuesday, 5 July 2011

शनि की साढ़ेसाती एवं ढय्या २०११


Shani idol astro muhurtaSHANI DEV


शनिदेव वर्ष २०११ के आरम्भ से १४ नवम्बर २०११ तक कन्या राशि में संचार करेंगे | तदन्तर मंगलवार १५ नवम्बर २०११ को प्रातः १० बजकर ११ मिनट पर तुला राशि में प्रवेश करेंगे | फिर २२ मार्च २०१२ तक तुला में ही संचार करेंगे |
जन्म राशि, नाम राशि या लग्न राशि पर शनि साढ़े साती का प्रभाव सदा ही अनिष्टकारी ही होगा – ऐसा आवश्यक नहीं | कुंडली में शनि शुभ भावेश होकर उच्चस्थ , मित्र छेत्री या वर्गोतम स्थिति में हो, तो शनि अपनी दशा / अन्तर्दशा अथवा गोचरवश अरिष्ट फल की अपेक्षा शुभ फल ही देगा |
कन्या राशिस्थ शनि की साढ़ेसाती व ढैय्या – नवम्बर १४ , २०११ तक
सिंह , कन्या एवं तुला पर शनि साढ़े साती का शुभाशुभ प्रभाव रहेगा
मिथुन व कुम्भ राशी वालो को शनि की ढैया का अशुभ प्रभाव रहेगा |
मेष Aries – सुवर्ण पाया फल : कठिन संघर्ष, निर्वाह योग्य आय के साधन |
वृष Taurus – लौह पाया फल : विधा, कार्य / व्यवसाय में विघ्न बाधा | खर्च अधिक |
मिथुन Gemini – शनि की ढैया चल रही है आप को | सभी तरफ से परेशानी | शनि की शांति एवं पूजा से लाभ |
कर्क Cancer – ताम्बा का पाया : शुभ फल देगा | मंगल की नीच दृष्टी का उपाय करे |
सिंह Leo – चाँदी का पाया : शनि की साढ़े साती का प्रभाव अभी बना रहेगा |
कन्या Virgo – लौह पाया : तनाव जारी रहेगा |शनि की साढ़े साती का प्रभाव अभी रहेगा |

तुला Libra – ताम्बे का पाया : शनि की साढ़े साती का प्रभाव जारी रहेगा | १५ नवम्बर के बाद आकस्मिक लाभ होंगे |

No comments:

Post a Comment