Search This Blog

Saturday, 2 July 2011

सहस्रधाराः-

विविध कार्यों के लिए विविध सामग्रियों या द्रव्यों की धाराओं का शिवलिंग पर अर्पण किया जाता है तंत्र में सकाम अर्थात किसी कामना की पूर्ति की इच्ठा के साथ पूजन के लिए विशेष सामग्रियों का उपयोग करने का प्रावधान रखा गया है इनमें से कुछ का वर्णन आगे प्रस्तुत हैः-
सहस्रधाराः-
जल की सहस्रधारा सर्वसुख प्रदायक होती है
घी की सहस्रधारा से वंश का विस्तार होता है
दूध की सहस्रधारा गृहकलह की शांति के लिए देना चाहिए
दूध में शक्कर मिलाकर सहस्रधारा देने से बुद्धि का विकास होता है
गंगाजल की सहस्रधारा को पुत्रप्रदायक माना गया है
सरसों के तेल की सहस्रधारा से शत्रु का विनाश होता है
सुगंधित द्रव्यों यथा इत्र, सुगंधित तेल की सहस्रधारा से विविध भोगों की प्राप्ति होती है
इसके अलावा कइ अन्य पदार्थ भी शिवलिंग पर चढाये जाते हैं, जिनमें से कुछ के विषय में निम्नानुसार मान्यतायें हैं:-
सहस्राभिषेकः-
एक हजार कनेर के पुष्प चढाने से रोगमुक्ति होती है
एक हजार धतूरे के पुष्प चढाने से पुत्रप्रदायक माना गया है
एक हजार आक या मदार के पुष्प चढाने से प्रताप या प्रसिद्धि बढती है
एक हजार चमेली के पुष्प चढाने से वाहन सुख प्राप्त होता है
एक हजार अलसी के पुष्प चढाने से विष्णुभक्ति विष्णुकृपा प्राप्त होती है
एक हजार जूही के पुष्प चढाने से समृद्धि प्राप्त होती है
एक हजार सरसों के फूल चढाने से शत्रु की पराजय होती है
लक्षाभिषेकः-
एक लाख बेलपत्र चढाने से कुबेरवत संपत्ति मिलती है
एक लाख कमलपुष्प चढाने से लक्ष्मी प्राप्ति होती है
एक लाख आक या मदार के पत्ते चढाने से भोग मोक्ष दोनों की प्राप्ति होती है
एक लाख अक्षत या बिना टूटे चावल चढाने से लक्ष्मी प्राप्ति होती है
एक लाख उडद के दाने चढाने से स्वास्थ्य लाभ होता है
एक लाख दूब चढाने से आयुवृद्धि होती है
एक लाख तुलसीदल चढाने से भोग मोक्ष दोनों की प्राप्ति होती है
एक लाख पीले सरसों के दाने चढाने से शत्रु का विनाश होता है

No comments:

Post a Comment