Search This Blog

Thursday, 30 June 2011

Om Gan Ganpatyay Namha

Om Gan Ganpatyay Namha

This mantra is very auspicious for worshipping at Shivalaya and at begining of any work. For special objectives, 1.25 lacs  mantra recitation is required followed by Yagya (Homa) and Udhyapana (completion ceremony). For getting any further details free of cost, please contact us.

ॐ गण गणपतये नम: |
यह गणेश जी का सबसे सुंदर एवं समस्त बाधाओं और दुखो को हरने वाला मंत्र है| शास्त्रों के अनुसार हर पूजा मे सबसे पहले गणेश जी का पूजन अनिवार्य है | अगर आप शिव पूजन के लिये शिवालय में जाते है तो सर्व प्रथम इस मंत्र का जाप करते हुए गणेश जी के चरणों मे जल अर्पण करे|


विशेष प्रयोजन के लिय इस मंत्र का सवा लाख जप करे ततपश्चात् दशांश हवन करे. दशांश हवन के स्थान पर इतना ही जप कर सकते है| परन्तु हवन अवश्य करे. पूजन की पूरी विधि मुफ्त जानने के लिए सम्पर्क करे|

गणेश पूजन के अन्य मंत्र :-

ॐ भूर्भुव: स्व: सिद्धिबुद्धिसहिताय गणपतये नम:|

ॐ भूर्भुव: स्व: गणेशाम्बिकाभ्याम नम: |

सर्वकमना सिद्धि मंत्र :-

ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं गलों गं गणपतये वर वरद सर्वजनं मे वशमानय स्वाहा |

लक्ष्मी गणेश मंत्र

ॐ श्रीं गं सौभाग्य गणपतये वर वरद सर्जनाम मे वशमानय स्वाहा |

गणपति गायत्री मंत्र

ॐ एकदंताय विद्महे वक्रतुंडाय धीमहि तन्नो दंती प्रचोदयात |

व्रत पूजन

गणेश चतुर्थी व्रत - वक्रतुंडचतुर्थी व्रत

माघ कृष्ण चंद्रोदय व्यापनी चतुर्थी को वक्रतुंडचतुर्थी कहते है | इस व्रत के दिन संध्या वेले
मे चंद्रौदय के समय चन्द्र का पूजन कर के अर्घ्य दे | इस व्रत को पूरे वर्ष करे और पश्चात उद्यापन कर दे. यह व्रत समस्त संकटो को हरने वाला है | उद्यापन की पूरी विधि मुफ्त जानने के लिये सम्पर्क करे |

गणेश जी का व्रत प्रत्येक मंगलवार को करने का भी विधान है. गणेश जी पूजा करने से समस्त दोषों का नाश हो जाता है | विशेषकर, अगर जन्म कुंडली मैं मंगल एवं केतु अशुभ हो |

किसी भी देवता का पूजन हमेशा शुभ फल प्रदान करता है. परन्तु शास्त्रों मे इष्ट धारण करने का विधान है. क्योंकि अपने इष्ट देवता का पूजन करने से तुरंत लाभ प्राप्त होता है. अपना ईष्ट देवता जानने के लिए अपना जन्म का विवरण भेज कर मुफ्त जानकारी प्राप्त करे | सम्पर्क करे |

No comments:

Post a Comment