Search This Blog

Friday, 24 June 2011

गुरु-राहु युति यानि चाण्डाल योग



जन्म पत्रिका के एक ही भाव में जब गुरु राहु स्थित हो तो चाण्डाल योग निर्मित होता है। ऐसे योग वाला जातक उदण्ड प्र$कृति का होता है। राहु यदि बलिष्ठ हो तो जातक अपने गुरुका अपमान करने वाला होता है। वह गुरु के कार्य को अपना बना कर बताता है। गुरु की संपत्ति हड़पने में भी उसे परहेज नही होता। वहीं यदि गुरु ग्रह राहु सेे ज्यादा बलिष्ठ हो तो वह शिष्य अपने गुरु के सानिध्य में तो रहता परंतु अपने गुरु के ज्ञान को ग्रहण नहीं कर पाता। गुरु भी अपने शिष्य को अच्छे से प्रशिक्षित नहीं कर पाता।चाण्डाल योग वाला जातक अपने से बड़ों का अपमान करने वाला,उनकी बातों को टालने वाला, वाचाल होता है। क्या करें उपाय चाण्डाल योग निर्मुलन के लिए :-

१- गाय को भोजन दें।

२- हनुमान चालीसा का पाठ करें।

३- वृद्धों का सम्मान करें ।

४- माता पिता का आदर करें। ५- चन्दन का तिलक लगाएं।

No comments:

Post a Comment