Search This Blog

Monday, 27 June 2011

एक मंत्र जो करता है हर मनोरथ पूरी

क मंत्र जो करता है हर मनोरथ पूरी

आज मैं आपको एक ऐसे मंत्र के बारे में बताने जा रहा हूं जिससे बडी आसानी से मनचाहा फल प्राप्त किया जा सकता है और वो मंत्र है भगवान श्री गणेश का.

हिन्दू धर्म ग्रंथों में प्रणव यानि ओंकार ॐ को भगवान गणेश का ही स्वरुप बताया गया है। इसलिए पूजा-अर्चना या किसी कार्य की सफलता के लिए ऊँ के उच्चारण को भगवान गणेश का ही ध्यान माना जाता है, जो बहुत ही शुभ फल दायी होता है।

शास्त्रों में कामनापूर्ति के लिए भगवान गणेश की उपासना से संबंधित ॐ के उच्चारण के साथ कुछ सिद्ध मंत्रों के जप का महत्व बताया गया है। यह मंत्र मनचाहे फल पाने में अचूक माने जाते हैं -

सबीज गणपति मंत्र -
गं गणपतये नम: 
और
प्रणवादि सबीज गणपति मंत्र -
ॐ गं गणपतये नम:

भगवान गणेश की उपासना का यह छ: अक्षरों वाला मंत्र ॐ की ध्वनि के साथ धन और भौतिक सुख-सुविधाओं की कामना पूरी करने की दृष्टि से बहुत ही प्रभावकारी माना जाता है। साथ ही यह मंत्र एक रक्षाकवच बनकर आपको अनचाही मुसीबतों और संकटों से रक्षा करता है। इस अद्भुत मंत्र के अलावा अन्य सरल गणेश नाम मंत्र भी बहुत शुभ फल देने वाले माने जाते हैं.

इसी तरह बारह अक्षरों का गणेश नाम मंत्र -
ॐ नमो भगवते गजाननाय।
और आठ अक्षरों का गणेश नाम मंत्र -
ॐ श्री गणेशाय नम:
भी परम शुभ फल देने वाला है. मेरा अपना व्यक्तिगत अनुभव भी यही कहता है कि इन मंत्रों के जाप से आप अपनी हर मनोकामना  पूरी कर सकते है.

No comments:

Post a Comment